रायपुर। जिला प्रशासन के आग्रह पर समाज सेवी संस्था ’आशाएं’ ने एक बड़ी जिम्मेदारी का बीड़ा उठाया है। बीते 18 अप्रैल से लगातार गोगांव औद्योगिक क्षेत्र में 1000 मजदूरों और कर्मचारियों को हर दिन दोनों वक्त भोजन कराया जा रहा है। आशाएं की यह मुहिम लाॅक डाउन समाप्ति की घोषणा तक जारी रहेगी। संस्था के सचिव तरणजीत सिंह होरा ने बताया कि अध्यक्ष यश टूटेजा और कोषाध्यक्ष गुरप्रीत सलूजा के नेतृत्व में प्रतिदिन इन मजदूरों के लिए भोजन का पैकेट तैयार कराया जाता है और उन तक पहुंचाया जाता है। उन्होंने यह भी बताया कि केवल भोजन ही नहीं, बल्कि अन्य आवश्यकताओं की प्रतिपूर्ति भी संस्था के माध्यम से किया जा रहा है। इन 12 दिनों के भीतर 20 हजार जरुरतमंदों के लिए व्यवस्था की जा चुकी है।

संस्था के सचिव तरणजीत सिंह होरा ने बताया कि कोरोना महामारी के चलते देशभर में लाॅक डाउन की स्थिति को एक माह से अधिक वक्त गुजर चुका है। इस कठिन समय में समाज सेवी संस्था आशाएं ने तय कर लिया था कि इस दौरान समाज और शासन को हर स्तर सहयोग करेगी। इस संकल्प के चलते राजधानी में संस्था ने पहले चरण में प्रतिदिन 550 फूड पैकेट ट्रांसपोर्ट नगर, मेटल पार्क, उरला, सिलतरा, मजदूर बस्ती, नवागांव, तुलसी नगर, विधान सभा, मंदिर हसौद, चंडीनगर, कचना, देवार बस्ती कमल विहार, क्षेत्रों में लगातार 10 दिनों तक वितरित किया। इसके अतिरिक्त लगभग 50 बैग सूखा राशन किट, प्रतिदिन जरूरतमंदों तक पहुंचाया गया, समय समय पर जरूरतमंदों को सैनिटाइजर, मास्क, कपडे, चप्पल, साबुन पैकेट वितरित किया गया। पहले चरण में कुल 5500 फूड पैकेट एवं 500 किट राशन बैग जरूरतमंदों तक पहुंचाया गया। वहीं जिला प्रशासन को भी 1100 किलो राशन सामग्री प्रदान किया गया।

इसी तरह दूसरे चरण में रायपुर कलेक्टर की अपील पर संस्था ने 1000 राशन बैग तैयार किया, प्रति बैग में 5 किलो चावल, 1 किलो आंटा, 1 किलो आलू, 1 किलो प्याज, आधा किलो दाल, आधा किलो नमक, आधा लीटर तेल, 2 नग साबुन, बिस्किट दिया गया, जिसमे से 650 राशन बैग कलेक्टर की उपस्तिथि में जिला प्रशासन को सौंपा गया।