नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त वार्ताकार वकील संजय हेगडे और साधना रामचंद्रन शाहीन बाग पहुंच कर प्रदर्शनकारियों से बात कर रहे हैं। मौके पर मौजूद मीडियाकर्मियों को वहां से बाहर जाने के लिए कहा गया है। वार्ताकारों का कहना है कि मीडिया के सामने सभी बातें करना संभव नहीं है। 

  • साधना रामचंद्रन ने कहा कि मीडिया पहले हमें प्रदर्शनकारियों से बात करने दे।
  • वार्ताकारों ने प्रदर्शनकारियों से कहा कि हम यहां फैसला सुनाने नहीं बल्कि बात करने आये हैं। 
  • मीडियाकर्मियों को प्रदर्शनकारियों के बीच से बाहर निकालने पर लोगों की राय बंटी। कुछ प्रदर्शनकारी पक्ष में। 
  • साधना रामचंद्रन ने कहा कि आंदोलन से लोगों को परेशानी नहीं होनी चाहिए। प्रदर्शन करना सबका हक है। 
  • प्रदर्शनकारियों के बीच पहुंचने के बाद संजय हेगड़े ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर यहां आए हैं। हम सभी से बात करने की उम्मीद करते हैं। हम हर किसी के सहयोग से मामले को सुलझाने की कोशिश करेंगे।
  • प्रदर्शनकारियों के बीच से मीडियाकर्मियों को बाहर कर दिया गया है। वार्ताकारों ने कहा कि मीडिया के सामने सभी बातें नहीं हो सकती। 
  • संजय हेगड़े ने सुप्रीम कोर्ट का आदेश पढ़कर प्रदर्शनकारियों को सुनाया। 
  • वकील संजय हेगडे और साधना रामचंद्रन शाहीन बाग पहुंच गए हैं। उनके साथ बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी भी मौजूद हैं। 
  • सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त ये वार्ताकार धरना खत्म कराने के लिए प्रदर्शनकारियों से बातचीत करेंगे। 

मंगलवार सुबह से सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय किए गए मध्यस्थों के शाहीन बाग पहुंचने की सूचना पर असमंजस की स्थिति रही। शाहीन बाग में सुप्रीम कोर्ट द्वारा मध्यस्थता तय किए जाने के बाद से प्रदर्शनकारियों के बीच कई सवाल उठ रहे हैं। लेकिन प्रदर्शन में किसी आधिकारिक व्यक्ति या संस्था का न होना लोगों को अखर रहा है। प्रदर्शनकारियों के सवालों के जवाब देने के लिए कोई भी व्यक्ति सामने नहीं आ रहा है। ऐसे में लगातार 65 से अधिक दिनों से सड़कों पर बैठे प्रदर्शनकारी परेशान हैं।