रायपुर। राजधानी रायपुर में स्थित एम्स अस्पताल में आज वायुसेना के हेलीकाॅप्टर ने फूलों की वर्षा की। विगत 40 दिनों से कोरोना पीड़ित मरीजों की सलामती के लिए अपनी जान जोखिम में डालकर पूरी शिद्दत से काम करने वाले डाॅक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाॅफ और मेडिकल स्टोर्स में दिन-रात अपनी सेवाएं देने वाले इन कोरोना वारियर्स के लिए यह पल अभूतपूर्व रहा। वायुसेना का हेलीकाॅप्टर आसमान पर गड़गड़ाहट के साथ उपस्थित हुआ और एम्स परिसर के बाहर खड़े इन वारियर्स के सम्मान में फूलों की वर्षा करता रहा।

विदित है कि भारत में कोरोना ने करीब 40 दिनों पहले हमला शुरू किया था, तब से लेकर एम्स अस्पताल में डाॅक्टर, नर्सेस, पैरामेडिकल स्टाॅफ ने तो शहर के चप्पे-चप्पे पर वर्दीधारियों ने मोर्चा संभाल रखा है। सरकार और प्रशासन लगातार माॅनिटरिंग करने के साथ ही बेहतर करने के प्रयास में जुटे हुए है, ताकि प्रदेश में एक भी व्यक्ति कोरोना की वजह से अपनी जान ना गंवाएं।

छग के लिए यह सुखद परिणाम है कि इन 40 दिनों में कुल 43 में से 36 मरीज स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच चुके हैं और केवल 7 मरीज एम्स अस्पताल में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। देश के अन्य राज्यों में आए दिन कोरोना पीड़ितों की मौत हड़कंप मचा रहा है, तो छग में कोरोना की जद में आने वाला मरीज अधिकतम 12 दिनों में पूरी तरह से स्वस्थ होकर अपने घर लौट रहा है।

दो राय नहीं कि रायपुर एम्स ने चमत्कारिक उपचार किया है, जिसकी वजह से प्रदेश ने एक भी जीवन को नहीं खोया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की असाधारण निर्णयों का परिणाम है, जिसकी वजह से प्रदेश आज भी खुशहाल है और अन्य प्रदेशों के मरीजों के जीवन को भी सुरक्षित रखने लगातार प्रयास जारी है।