रायपुर। लाॅक डाउन का पालन करने की बार-बार अपील के बावजूद लोग बाहर निकलने से बाज नहीं आ रहे हैं। छत्तीसगढ़ में भले ही स्थिति नियंत्रण में है, लेकिन अब मरीजों की संख्या में वृद्धि को देखते हुए सख्ती बरतने का निर्णय लिया गया है। सरकार ने सीधे तौर पर आदेश जारी कर दिया है कि लाॅक डाउन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ अब सीधे एफआईआर दर्ज किया जाए। अब तक पुलिस समझाइश से काम चला रही थी, लेकिन हालात को ध्यान में रखते हुए निर्देशों का उल्लंघन करने वालों को अब नहीं बख्शा जाएगा। बता दें कि लाॅक डाउन का उल्लंघन करने वालों को 6 महीने से 2 वर्ष के जेल की सजा का भी प्रावधान है।

किसी बात के लिए व्यग्र होने की जरुरत नहीं
राज्य सरकार ने बेहद साफ शब्दों में कहा है कि प्रदेश की स्थिति सभी मामलों में सुदृढ़ है। आने वाले 10 माह का राशन आसानी से उपलब्ध है, लिहाजा किसी भी सामान के लिए लोगों को परेशान होने की आवश्यकता नहीं है। यह भी कहा जा रहा है कि किसी वर्ग विशेष, व्यक्ति विशेष के लिए नहीं, बल्कि यह प्रबंधन प्रदेश के हर किसी के लिए सरकार ने कर रखा है। प्रदेश के लोगों को लाॅक डाउन के दौरान केवल संयमित रहते हुए अपने घरों पर बने रहना है, इस दौरान किसी भी तरह का उल्लंघन बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।