ओलम्पिक संघ चुनाव होगा 45 दिनों के भीतर…. पिछली कार्यकारिणी में हुई अनियमितताएं…… फर्म एंड सोयायटी ने लिया संज्ञान

रायपुर। राज्य ओलम्पिक संघ की पूर्व कार्यकारिणी को भंग कर नई कार्यकारिणी 45 दिनों के भीतर खड़ी किए जाने का आदेश फर्म एंड सोसायटी ने जारी कर दिया है। संघ के उपाध्यक्ष ने राज्य ओलम्पिक संघ में की गई अनियमितताओं को लेकर उप पंजीयक फम्र्स एवं सोसायटी के समक्ष शिकायत प्रस्तुत की थी, जिसका परीक्षण कराया गया और की गई शिकायत को उचित ठहराते हुए पूर्व कार्यकारिणी को भंग करते हुए आदेश दिया गया है कि 45 दिनों के भीतर नई कार्यकारिणी का गठन किया जाए, जिसकी सूचना उप पंजीयक फम्र्स एवं सोसायटी को दी जाए।
आज इस विषय को लेकर राज्य ओलम्पिक संघ के पदाधिकारियों ने पत्रकारवार्ता ली। संघ के उपाध्यक्ष एवं शिकायतकर्ता बशीर खान व टेनिस संघ के सचिव गुरूचरण सिंह होरा ने बताया कि राज्य ओलम्पिक संघ का अपना बायलाॅज है, जिसके मुताबिक प्रत्येक चार साल के बाद नई कार्यकारिणी चुनने का प्रावधान है, लेकिन पूर्व सचिव  के निर्देश पर कार्यकाल को बिना किसी पूर्व सूचना के संशोधित करते हुए पांच साल कर दिया गया। बताया गया कि इस मामले में न तो सामान्य सभा आहुत की गई और न ही पदाधिकारियों और सदस्यों को जानकारी दी गई।
इस मामले में यह भी बताया गया कि पूर्व कार्यकारिणी ने मनचाहे तरीके से लोगों को आजीवन सदस्यता प्रदान कर दी, जो अवैधानिक है। इसके साथ ही बायलाॅज में यह स्पष्ट है कि आजीवन सदस्यों को मताधिकार नहीं मिलता, लेकिन इसमें भी अपने लोगों को लाभ पहुंचाने की नीयत से संशोधन करते हुए उन्हें मताधिकार प्रावधानित कर दिया गया।
टेनिस संघ के सचिव एवं ओलम्पिक संघ के सदस्य गुरूचरण सिंह होरा ने बताया कि उपपंजीयक फम्र्स एंड सोसायटी ने यह निर्णय लिया है कि पूर्व कार्यकारिणी ने जो भी संशोधन किया है, उसे तत्काल प्रभाव से निरस्त किया जाए। उन्होंने बताया कि संघ के सदस्य इस दिशा में कार्य पर लग गए हैं और 45 दिनों के भीतर नई कार्यकारिणी का गठन किया जाएगा। संघ के सदस्य गुरूचरण सिंह होरा ने कहा कि यह एक गैर राजनीतिक संस्था है, जिसका उद्देश्य ओलम्पिक खेलों को बढ़ावा देना है और बड़े स्तर पर खेलों का आयोजन करना है। उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए ही उप पंजीयक फम्र्स एंड सोसायटी में शिकायत दर्ज कराई गई थी, ताकी जल्द इस पर निर्णय लिया जा सके और नई कार्यकारिणी का गठन कर आगे बढ़ा जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *