भानुप्रतापपुर। क्षेत्र में लगातार दो दिनों से कम उम्र के मासूम बच्चों के द्वारा आत्महत्या किए जाने से पूरे क्षेत्र में हड़कंप मच गया है सोमवार को दिन भानुप्रतापपुर के वार्ड क्रमांक 12 में दो बहनों के बीच हुए विवाद के बाद एक 14 वर्षीय बच्ची संगीता यादव ने घर में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी, जिससे भानूप्रतापपुर क्षेत्र में हड़कंप मचा हुआ था। वहीं आज मंगलवार को भानुप्रतापपुर थाना क्षेत्र के ग्राम फरसकोट में के एक 11 वर्षीय बालक ने अपने पिता की डांट से नाराज होकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली ।

इतने छोटे-छोटे बच्चों के द्वारा इतना घातक कदम उठाए जाने से क्षेत्र में परिजनों के सामने एक नई समस्या खड़ी हो गई है।

मिली जानकारी के अनुसार शिव प्रसाद उसेंडी ने अपने बेटे पीयूष को गाड़ी साफ करने कहा और डीज़ल लेने भानुप्रतापपुर आ गया। शिवप्रसाद जब वापस पहुंचा तो गाड़ी साफ नहीं हुई थी, इस बात पर मृतक पीयूष को डांट दिया और कुछ काम करने लगा।

इसी बीच नाराज बेटा पास ही एक कुंए के पास गया और वहां छोटे पेड़ पर रस्सी से फांसी लगा ली। भानुप्रतापपुर पुलिस ने कार्यवाही कर शव परिजनों को सौंप दिया।

परंतु लगातार बच्चों के द्वारा ज़रा सी बात पर यह कदम उठाना परिजनों को सोचने पर मजबूर कर रहा है।