ग्रैंड न्यूज। कोरोना की दूसरी लहर किस हद तक खतरनाक है इसका अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता। बीते करीब 3 माह से देश के कई राज्य इस भयंकर लड़ाई से जूझ रहे हैं। महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, गुजरात, मध्यप्रदेश सहित कई राज्यों में लॉकडाउन लगाया गया है ताकि किसी तरह कोरोना की रफ्तार पर नकेल लगाई जा सके। लेकिन फिलहाल उम्मीद की कोई किरण नजर नहीं आ रही है। 

ऐसा माना जा रहा था कि परस्पर संपर्क में आने की वजह से कोरोना ज्यादा तेज गति से फैल रहा है। यह एक सच्चाई है जिससे इनकार नहीं किया जा सकता। लेकिन सवाल यह भी उठता है कि जो लोग सुरक्षा के घरों में हमेशा रहते हैं वे भी संक्रमित हो रहे हैं। ताजा मामला राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का है जिन्हें किसी तरह का लक्षण नहीं था लेकिन उनकी रिपोर्ट भी कोविड-19 पॉजिटिव आई है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज ट्वीट कर यह जानकारी साझा की है। सीएम गहलोत ने अपने ट्विटर पर लिखा है कि वे कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं लेकिन उनमें किसी तरह का लक्षण नहीं है। उन्होंने खुद को आइसोलेट भी कर लिया है और लोगों से अपील की है कि इस आपदा के समय में अपना ज्यादा से ज्यादा ध्यान रखें और खुद को सुरक्षित रखते हुए अन्य लोगों को सुरक्षा में मदद करें।

कोरोना की दूसरी लहर काफी ज्यादा घातक है इस वजह से बार-बार देश के तमाम नागरिकों से अपील की जा रही है कि इस खतरनाक वायरस के खिलाफ जारी जंग में खुद को सुरक्षित रखने की हर संभव कोशिश लगातार जारी रखने की आवश्यकता है ताकि कोरोना की जंग में जीत हासिल की जा सके।