BIG NEWS : सरगुजा,बलरामपुर कलेक्टर की डीपी लगा साइबर ठगी की कोशिश

अंबिकापुर। उत्तर छत्तीसगढ़ में इंटरनेट मीडिया के विभिन्न माध्यमों से आनलाइन ठगी की घटनाओं के बीच सरगुजा और बलरामपुर कलेक्टर की डीपी लगाकर साइबर ठगों द्वारा चैटिंग की जा रही है।बलरामपुर कलेक्टर की डीपी लगाकर तो बकायदा उगाही की भी कोशिश की गई है।दोनों जिलों के कलेक्टर ने स्वयं इस मामले को सामने लाया है।दोनों कलेक्टर ने संबधित मोबाइल नंबर धारक के खिलाफ अपराधिक प्रकरण दर्ज करने के निर्देश दिए है।लोगों से अपील की गई है कि संबधित नंबर से किसी भी प्रकार की बातचीत या कोई संव्यवहार न करें।सरगुजा व बलरामपुर पुलिस ने गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू कर दी है।प्रथम दृष्टया इसे साइबर ठगों की करतूत मानी जा रही है जो कलेक्टरों के नाम पर लोगों को शिकार बनाना चाहते थे लेकिन दोनों कलेक्टर ततपरता से इंटरनेट मीडिया के माध्यम से ही इस फर्जीवाड़े की कोशिश की जानकारी जन सामान्य तक पहुंच गई है।

बलरामपुर कलेक्टर विजय दयाराम के ने सोमवार की सुबह इंटरनेट मीडिया के विभिन्ना प्लेटफार्म पर एक पोस्ट किया।उन्होंने लिखा कि मोबाइल नंबर 80767 82840 जिसमें मेरा (कलेक्टर) डीपी डाला गया है।इस मोबाइल नंबर से मेरे संपर्क सूची के व्यक्तियों को संदेश के माध्यम से तत्काल बात करने एवम पैसे की मांग की जा रही है।कलेक्टर दयाराम ने जनसामान्य को सूचित करते हुए लिखा कि उक्त मोबाइल नंबर उनका नहीं है। फर्जी तरीके से किसी अज्ञात व्यक्ति के द्वारा संदेश भेजा जा रहा है। जिस पर तत्काल कार्रवाई किए जाने एफआईआर की कार्यवाही की जा रही है।उन्होंने सभी से अनुरोध भी किया कि उक्त नंबर से किसी भी प्रकार का संव्यवहार नहीं करें।इस मामले पर बलरामपुर पुलिस की जांच चल ही रही थी कि सरगुजा कलेक्टर कुंदन कुमार की ओर से शासकीय विज्ञप्ति जारी की गई।

सरकारी विज्ञप्ति में उल्लेख किया गया कि साइबर ठगों के द्वारा कलेक्टर कुंदन कुमार का फोटो डीपी में डालकर व उनके नाम का इस्तेमाल कर इंटरनेट मीडिया पर चैटिंग करने का मामला सामने आया है। कलेक्टर कुन्दन कुमार ने व्हाट्सएप पर साइबर ठगों द्वारा की गई चैटिंग के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि मोबाईल नंबर 80767 82840 पर कुछ साइबर ठगों के द्वारा उनके नाम का इस्तेमाल करते हुए व व्हाट्सएप में उनका फ़ोटो का डीपी रख चैटिंग की जा रही है। उन्होंने कहा है कि उक्त नंबर व उनके नाम से आने वाले मैसेज उनके नही है। इस नंबर से किसी प्रकार का संव्यवहार ने करें । इस मोबाइल नंबरधारी पर एफआईआर की कार्यवाही भी की जा रही है। कलेक्टर ने लोगों से साइबर ठगों के झांसे में न आने की अपील करते हुए सावधानी बरतने व सतर्क रहने कहा है।

मोबाइल नंबर एक ही
सरगुजा और बलरामपुर कलेक्टर की फ़ोटो, इंटरनेट मीडिया में उपयोग करने वाला नंबर एक ही है।मोबाइल नंबर 80767 82840 पर दोनों जिले के कलेक्टर की फ़ोटो का उपयोग डीपी के रूप में किया जा रहा है।प्रारंभिक जांच में इस बात का पता चला है कि उस मोबाइल नंबर का लोकेशन दिल्ली का मिला है।दोनों जिले में एफआइआर दर्ज की जा रही है।
साइबर ठगी की कोशिश
कलेक्टरों के नाम से साइबर ठगी के लिए ऐसी जालसाजी की जा रही है। सरगुजा के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला ने बताया कि इसमें साइबर ठग ही शामिल है।इनकी मंशा ठगी की रही होगी।मामले में अपराध दर्ज किया जा रहा है।जो भी आरोपित होंगे उनकी गिरफ्तारी करेंगे।साइबर ठगी के बड़े मामलों का सरगुजा पुलिस लगातार पर्दाफाश कर रही है।
इधर तत्कालीन कलेक्टर की स्मार्ट घड़ी चोरी
इधर सरगुजा के तत्कालीन कलेक्टर संजीव झा की स्मार्ट घड़ी चोरी कर ली गई है।चोरी करने वाला व्यक्ति उनके घर सामान पैकिंग करने आया था।पुलिस तक शिकायत पहुंची तो आरोपित भी पकड़ा गया लेकिन उसने स्मार्ट घड़ी को महामाया तालाब में फेंक देने की जानकारी दी।पुलिस ने तलाशी अभियान भी चलाया लेकिन स्मार्ट घड़ी नहीं मिल सकी है।