Technology News : क्रोम पर कुकीज इकट्ठा करना बंद करेगा गूगल, कंपनी ने बताई नई टाइमलाइन, प्राइवेसी की गारंटी

Technology News : गूगल (Google)जल्द ही कुकीज को इकट्ठा बंद करने वाला है, हालांकि इसके लिए आपको थोड़ा इंतजार करना होगा। दरअसल, गूगल ने घोषणा की है कि वह प्राइवेसी सैंडबॉक्स एपीआई (Privacy Sandbox API)की टेस्टिंग का विस्तार अधिक आबादी के लिए कर रहा है, साथ ही अनिवार्य रूप से क्रोम में थर्ड-पार्टी कुकीज के फेज़ आउट को 2024 तक टाल कर रहा है। यह प्राइवेसी सैंडबॉक्स (privacy sandbox)को तैनात करने का एक हिस्सा है, जिसका उद्देशय इंटरनेट पर यूजर्स को अधिक प्राइवेट और टारगेट एडवरटाइजिंग से छुटकारा दिलाना है। गूगल का कहना है कि उसे डेवलपर्स, पब्लिशर्स, मार्केटर्स और रेगुलेटर्स (Regulators)से प्रतिक्रिया मिली और उन्होंने क्रोम में थर्ड-पार्टी कुकीज को डिसेबल करने से पहले मूल्यांकन करने के साथ-साथ नई तकनीकों का परीक्षण करने के लिए और समय मांगा। बता दें कि गूगल ने 2020 में कहा था कि वह यूजर्स को “दो साल के भीतर” प्राइवेट और टारगेट एडवरटाइजिंग से छुटकारा दिलाने का इरादा रखता है।

कब तक बंद होंगी थर्ड-पार्टी कुकीज
प्राइवेसी सैंडबॉक्स के उपाध्यक्ष एंथनी शावेज ने एक टाइमलाइन दी कि गूगल कैसे क्रोम ब्राउज़र में अपनी प्राइवेसी सैंडबॉक्स तकनीकों को तैनात करना चाहता है। कंपनी “अगस्त की शुरुआत से वर्ष के अंत तक” और “2023 में” प्राइवेसी सैंडबॉक्स एपीआई के परीक्षण के दायरे का विस्तार कर रही है। गूगल को उम्मीद है कि प्राइवेसी सैंडबॉक्स एपीआई Q3 2023 तक लॉन्च किया जाएगा और आमतौर पर क्रोम में उपलब्ध होगा। यह “2024 की दूसरी छमाही में क्रोम में थर्ड-पार्टी कुकीज को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करना शुरू करना चाहता है।”

गूगल ने कहा कि उसने डिज़ाइन प्रपोजल्स को रिफाइन करने के लिए W3C जैसे प्लेटफॉर्म्स के माध्यम से डेवलपर्स, पब्लिशर्स, मार्केटर्स और रेगुलेटर्स के साथ काम किया है। यह यूके की कॉम्पीटिशन और मार्केट ऑथोरिटी (सीएमए) के साथ एक समझौते पर भी पहुंचा कि कैसे दुनिया भर में क्रोम में प्राइवेसी सैंडबॉक्स को विकसित और जारी किया जाए। प्राइवेसी सैंडबॉक्स वेबसाइट के अनुसार, प्रस्ताव डिवलपमेंट प्रोसेस के विभिन्न चरणों में हैं।

also read : REET answer key : दो दिन के अंदर जारी हो सकती है REET की answer key, देखें अपडेट

चावेज ने नोट में कहा “हमें जो सबसे सुसंगत प्रतिक्रिया मिली है, वह है क्रोम में थर्ड-पार्टी कुकीज को हटाने से पहले नई प्राइवेसी सैंडबॉक्स तकनीकों का मूल्यांकन और परीक्षण करने के लिए अधिक समय की आवश्यकता है। थर्ड-पार्टी के कुकीज से संक्रमण के लिए यह दृष्टिकोण यह सुनिश्चित करता है कि क्रॉस-साइट ट्रैकिंग पहचानकर्ताओं या फिंगरप्रिंटिंग जैसी गुप्त तकनीकों पर भरोसा किए बिना, वेब फलना-फूलना जारी रख सकता है, ”।

कंपनी ने 2020 में कहा था ये
जैसा कि हम पहले बता चुके हैं, गूगल ने पहले कहा था कि वह “2 साल के भीतर” क्रोम ब्राउज़र से थर्ड-पार्टी कुकीज को फेज़ आउट करना शुरू कर देगा। इन थर्ड-पार्टी कुकीज का उपयोग कंपनियों द्वारा इंटरनेट पर यूजर्स की गतिविधियों को ट्रैक करने के लिए किया जाता है, जिससे गोपनीयता के उल्लंघन के बारे में चिंताएं पैदा होती हैं। गूगल का प्राइवेसी सैंडबॉक्स सॉल्यूशन तृतीय पक्षों के साथ उपयोगकर्ता डेटा शेयरिंग को सीमित करेगा और विज्ञापन आईडी सहित क्रॉस-ऐप पहचानकर्ताओं के बिना काम करेगा। इसका परिणाम अधिक लक्षित विज्ञापनों के वितरण के साथ-साथ हेल्दी, एड-सपोर्टेड वेब रेंडरिंग थर्ड-पार्टी कुकीज को अप्रचलित बनाने में होगा।