कर्मचारियों के हड़ताल का 4 दिन, मांगे पुरी नही होने पर बड़े आंदोलन की चेतावनी

सीएम भूपेश बघेल से हैं उम्मीद

 

केंद्र के समान 34 प्रतिशत मंहगाई भत्ता व सातवे वेतनमान के अनुरूप गृह भाड़ा भत्ता प्रदान करने को लेकर छत्तीसगढ़ कर्मचारी एवं अधिकारी फेडरेशन के आंदोलन के चौथे दिन सरकार की हठधर्मिता को लेकर जबरदस्त आक्रोश आन्दोलनकारियो में देखा गया। छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के दुर्ग संभाग प्रभारी राजेश चटर्जी ने बताया कि केंद्रीय कर्मचारियों को फिलहाल 34% डी.ए मिल रहा है जबकि राज्य में डी.ए. 22% है। जोकि 1 मई 22 से प्रभावशील किया गया है। उन्होंने बताया कि गृहभाड़ा भत्ता स्वीकृति के मामले में राज्य सरकार कर्मचारी-अधिकारियों का आर्थिक शोषण कर रही है । जबकि राज्य में 1/1/2016 से सातवाँ वेतनमान लागू हो गया था। लेकिन कर्मचारी-अधिकारियों को आज पर्यन्त छटवे वेतनमान के मूलवेतन पर एच आरए दिया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि आज छत्तीसगढ़ के पहले त्यौहार हरेली है, और आज हमारे मुख्यमंत्री दुर्ग के दौरे पर हैं तो हम यही उम्मीद करते हैं कि वह हमारे बीच आएंगे और हमारी मांगों को पूरा करने की घोषणा करेंगे यदि हमारी मांगे पूरी नहीं की जाती तो हम 1 अगस्त से अगस्त क्रांति/आंदोलन की ओर बढ़ने को मजबूर होंगे.