CG CRIME NEWS : नाबालिग को गवाही देना पड़ा भारी, आरोपी के दोस्त ने चाकू मारकर कर दी हत्या 

CG CRIME NEWS : नाबालिग को गवाही देना पड़ा भारी, हरेली के अवसर पर आरोपी के दोस्त ने चाकू मारकर कर दी हत्या 
 

बिलासपुर। CG CRIME NEWS जिले में एक युवक ने अपने ही नाबालिग दोस्ती की चाकू घोंपकर हत्या कर दी। मरने वाले लड़के का कसूर ये था कि उसने आरोपी के दोस्त के खिलाफ पुलिस के पास गवाही दी थी और उसके दोस्त को जेल जाना पड़ा था। इसका बदला लेने के लिए आरोपी युवक मौके की फिराक में था। हरेली पर्व की रात उसने मौका पाकर चाकू से हमला कर उसे मार डाला। मामला सरकंडा थाना क्षेत्र (Sarkanda police station area) का है।

 

सरकंडा क्षेत्र के चांटीडीह निवासी राकेश यादव (16) दसवीं कक्षा में पढ़ रहा था। इसके बाद वह स्कूल जाना बंद कर दिया था। उसके पिता अजय यादव सब्जी व्यापारी हैं। राकेश अपने पापा के साथ काम करता था। वह दोस्तों के चक्कर में नशा करने लगा था। गुरुवार की रात वह अमित ध्रुव सहित अन्य दोस्तों के साथ मोहल्ले में घूमने निकला था। इस दौरान अमित नशे में था। पुरानी रंजिश के चलते अमित से उसका विवाद शुरू हो गया। देखते ही देखते झगड़ा बढ़ गया और अमित ने चाकू निकालकर राकेश पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। इसके बाद हमलावर अमित भाग निकला।

 

चाकू के हमले से खून से लथपथ घायल राकेश जमीन में गिर गया और बेहोश हो गया। उसके दोस्तों ने इस घटना की जानकारी राकेश के पिता को दी। फिर आनन-फानन में उसे इलाज के लिए CIMS लेकर गए, लेकिन, CIMS पहुंचते ही उसकी मौत हो गई।

 

पुलिस ने देर रात आरोपी को किया गिरफ्तार

इधर, हत्या की जानकारी मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। जब तक पुलिस वहां पहुंची, घायल राकेश को CIMS भेज दिया गया था। पुलिस ने हमलावर अमित की जानकारी जुटाई और उसकी तलाश में जुट गई। CSP स्नेहिल साहू ने बताया कि आरोपी अमित को देर रात पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

 

अपने आप को नाबालिग बता रहा था आरोपी युवक

आरोपी युवक जब पुलिस की गिरफ्त में आया, तब अपने आप को नाबालिग बता रहा था। शुक्रवार को पुलिस ने उसकी मार्कशीट मंगाकर जांच की, तब पता चला कि उसका उम्र 18 साल से अधिक है। पुलिस ने आरोपी अमित को गिरफ्तार कर लिया है।

 

गवाही देकर भेजा था जेल, इसलिए मार डाला

पुलिस ने राकेश के दोस्तों से पूछताछ की और आरोपी अमित का बयान दर्ज किया। तब पता चला कि अमित नशे का आदी है। वह कबाड़ बिनकर जीवन गुजारा करता था। उसके पिता की मौत हो चुकी है और उसके घरवाले भी उससे परेशान रहते थे।इसके चलते वह अपने दोस्तों के साथ ही रहता था। कुछ समय पहले राकेश ने किसी मामले में उसके दोस्त के खिलाफ पुलिस के पास गवाही दी थी। इसके चलते उसके दोस्त को जेल जाना पड़ा था। इसी बात से वह राकेश से रंजिश रखने लगा था। इसी का बदला लेने के लिए उसने राकेश पर चाकू से हमला कर उसकी हत्या कर दी।

 

घर का इकलौता बेटा था राकेश
राकेश यादव अपने घर का इकलौता बेटा था। उसके पिता अजय ने पुलिस को बताया कि वह गलत संगती में आ गया था। इसके चलते दसवीं कक्षा तक पढ़ाई कर स्कूल जाना बंद कर दिया था। राकेश उनका इकलौता बेटा था। घर में उनकी दो बेटियां हैं। उसकी मौत के बाद घर का चिराग बुझ गया है।