017 में 12 चयनित अभ्यर्थी आदिवासी समाज

बिलासपुर। जे इ इ मैन्स यानी IIT, NIT जैसे देश के प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग कॉलेज में चयनित होना किसी के लिए भी बड़ी बात होती है | अगर ऐसा सामाजिक एवं आर्थिक रूप से वंचित समाज के बच्चे कर लें तो सुखद आश्चर्य सा लगता है | मैट्रिक्स अकादमी के कुशल प्रबंधन एवं शिक्षण ने शिक्षा में गुणवत्ता एवं समावेश का अद्भुद उदहारण पेश किया है |

मैट्रिक्स जे. ई. ई अकादमी, अग्रसेन चौक बिलासपुर, विगत 3 वर्षो से बिलासपुर के छात्र-छात्राओं को इंजीनियरिंग एवं मेडिकल प्रवेश परीक्षा हेतु कोचिंग प्रदान कर रही है | साथ ही छत्तीसगढ़ शासन द्वारा संचालित, प्रयास आवासीय विद्यालय रमतला बिलासपुर, में भी अपनी सेवाएं प्रदान कर रही है | इस वर्ष प्रयास के 17 छात्रों ने जे इ इ मैन्स में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर एडवांस परीक्षा हेतु क्वालीफाई किया है | चयनित छात्रों में लक्ष्यदीप सिंह टेकाम ,आराधना मिंज, खेम्लता , नयनतारा सिंह , पायल , आदेश कुमार ,अभिषेक पैंकरा , अजय सिंह, कमलेश मरकाम, मोहित कुमार, प्रवीण कुमार चौरे , राहुल पुजारी, दीप बंजारे , सागर, संदीप कुमार, विवेक जांगडे, और खेमचंद शामिल है |

उम्मीद एवं मनोबल जगाती शिक्षण व्यवस्था
छात्रों ने बताया कि मैट्रिक्स अकादमी के शिक्षकों ने उन्हें कक्षा में प्रश्न पूछने एवं समझ कर अभ्यास करने के लिए प्रेरित किया | उन्होंने पिछले दो साल में जो भी पढ़ाया, वही जेईई मेन में काम आया। इसके अलावा प्रेक्टिस टेस्ट से काफी सपोर्ट मिला, क्योंकि इनका पैटर्न और डिफीकल्टी लेवल जेईई मेन जैसा होता है।

ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (JEE MAIN) परिणाम 2022 सत्र 2 में मैट्रिक्स अकादमी ने न सिर्फ बिलासपुर बल्कि पूरे राज्य में उत्कृष्ट परिणाम दिया है | उनकी सुदृढ़ व्यवस्था एवं शिक्षण के फल स्वरुप प्रयास रायपुर में 88, प्रयास दुर्ग में 27, प्रयास अंबिकापुर में 17 , एकलव्य रायपुर में 26 छात्र जे इ इ एडवांस के लिए चयनित हुए हैं |

ट्राइबल विभाग के असिस्टेंट कामिश्नर श्री सी. एल जायसवाल ने कहा कि मैट्रिक्स संस्था एवं बच्चों ने निरंतर परिश्रम कर यह मुकाम हासिल किया है | इससे अगले बैच को और भी बेहतर करने की प्रेरणा मिलेगी।

अकादमी के चेयरमैन डॉ. अजय श्रीवास्तव ने बताया कि मैट्रिक्स की शिक्षण व्यवस्था ऐसी है कि सभी प्रकार के छात्र इसमें अच्छा कर सकते हैं | इसमें उच्च कोटि का शिक्षण, व्यवस्थित स्टडी मटेरियल, दैनिक अभ्यास, ग्रुप स्टडी, नियमित टेस्ट एवं फीडबैक आदि शामिल है |

अकादमी के निदेशक श्री एस. के. जनास्वामी ने कहा कि इन दो वर्षों के दौरान उनकी पूरी टीम छात्रों के उत्साह वर्धन एवं समस्याओं का निवारण करने के लिए प्रतिबद्ध रही है | हमें पूरी उम्मीद है कि आने वाले वर्षों में हम और भी बेहतर करेंगे |