इस साल पारसी नववर्ष( parsi new year) यानी नवरोज (Navroz) का पर्व आज मनाया जा रहा है। फ़ारसी में ‘नव’ और ‘रोज़’ शब्द का मतलब होता है कि ‘नया’ और ‘दिन’। नवरोज को जमशेदी नवरोज, नौरोज, पतेती नाम से भी जानते हैं। हिंदी कैलेंडर के अनुसार, दुनियाभर ( all over world)में नया साल 1 जनवरी को मनाया जाता है। वहीं हिंदू धर्म में नया साल चैत्र मास में मनाया जाता है। उसी तरह पारसी कैलेंडर के अनुसार, नवरोज आज के दिन मनाया जाता है।

Read more : Horoscope Today 16 August: इन राशि वालों को मिलेगा भाग्य का साथ, सिंह राशि वालों को मिलेगी सफलता

नवरोज करीब पिछले 30 हजार सालों से पारसी समुदाय के द्वारा मनाया जा रहा है। यह उत्सव फारस के राजा जमशेद की याद में मनाते हैं। माना जाता है कि योद्धा जमशेद ने पारसी कैलेंडर की स्थापना की थी। इसके साथ ही उन्होंने इस दिन सिंहासन ग्रहण किया था। इस कारण इस दिन को बड़े ही धूमधाम तरीके से हर साल मनाया जाता है।

कैसे मनाते हैं नवरोज( navroz) 

इस दिन पारसी समुदाय के लोग जल्दी उठकर तैयार हो जाते हैं और तरह-तरह के व्यंजन बनाते हैं और अपने दोस्तों और करीबियों को बांटते है। इसके साथ ही एक-दूसरे को गिफ्ट्स भी देते है।

भारत( india) में कब होता है नवरोज?

कई जगह यह त्योहार साल में दो बार मनाया जाता है जो 16 अगस्त और 21 मार्च को को भी छमाही और वार्षिक के तौर पर मनाया जाता है। दुनियाभर में पारसी समुदाय के लोग यह पर्व पारसी पंचांग के पहले महीने के पहले दिन यानी 21 मार्च को मनाते हैं। जबकि भारत में पारसी लोग शहंशाही पंचांग का अनुसरण करते हैं। इसलिए वह 16 अगस्त को मनाते हैं।