तोकापाल / स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय तोकापाल में तंबाकू निषेध, एवं मुख स्वास्थ जागरुकता हेतु शिक्षकों एवं विद्यार्थियों के लिए दंत चिकित्सा विभाग तोकापाल बस्तर में पदस्थ दंत चिकित्सक डॉ अश्लेषा तिवारी एवं स्वास्थ्य टीम द्वारा 2 दिवसीय स्क्रीनिंग और कार्यशाला का आयोजन किया गया l राष्ट्रीय मुख स्वास्थ्य तथा तम्बाकू नियन्त्रण कार्यक्रम,COTPA 2003 के अंतर्गत स्कूल के सभी शिक्षकों एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों को प्रदाय इस ट्रेनिंग में तंबाकू की लत एवं उससे जनित रोग, विभिन्न प्रकार के कैंसर, तथा इनके उपायों को शिक्षकों द्वारा रोल-प्ले तरीके का उपयोग करते हुए डॉ तिवारी ने तम्बाकू नियंत्रण , बच्चों को इसकी लत से बचाने एवं इसकी रोकथाम, तथा उपचार हेतु सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं, टी सी सी क्लिनिक, दंत चिकित्सा सुविधाओं से अवगत करवाया I
ज्ञात हो कि GATS सर्वे द्वारा घोषित रिपोर्ट अनुसार छत्तीसगढ़ की 39.1% आबादी (इनमें मुख्यतः 15 से 59 वर्षीय शामिल हैं) तम्बाकू या इससे सम्बन्धित उत्पादों का उपयोग करती है l इस वजह से जनता का मुख कैंसर एवं अन्य बीमारियों के चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है l आदिवासी बाहुल्य बस्तर में तम्बाकू एवं इससे सम्बन्धी उत्पादों का उपयोग ज्यादा होने के कारण सालाना तम्बाकू जनित कर्क रोग के मामलो में बढ़त देखी गई, ऐसे में इस प्रकार के कार्यक्रम की प्रासंगिकता और बढ़ जाती है I समय समय पर ऐसे कार्यक्रम जिला एवं ब्लॉक स्तर पर प्रशासन द्वारा चिकित्सकों एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मचारियों के लिए आयोजित किया गए है, परंतु शिक्षकों के माध्यम से तम्बाकू नियन्त्रण का ब्लॉक स्तर पर इस प्रकार के कार्यक्रम का आयोजन पहली बार किया गया है l इसके साथ ही 208 विद्यार्थियों की जांच की गई। इन विद्यार्थियों की आयु 10 वर्ष से 18 वर्ष थी। इन विद्यार्थियों के मुख स्वास्थ्य जांच की गई, एवं दंत चिकित्सक तिवारी द्वारा प्रशिक्षित दंत चिकित्सा सहायक सुबन नाग द्वारा 208 बच्चों को दांतों को साफ़ करने के सही तरीके से अवगत कराया गया l कार्यक्रम में खंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. एम आर.कश्यप , स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय के प्राचार्य विधु शेखर झा, उप प्राचार्य इरम रहीम वरिष्ठ अध्यापक  जयप्रकाश पाठक, तरुण ठाकुर, कार्यक्रम प्रबन्धक पी. निगम, प्रेम गुप्ता, तथा सहायक दीपा नाग,सुबन नाग भी उपस्थित थे l
संस्था के प्राचार्य विधु शेखर झा ने अपने संबोधन में कहा कि इन दिनों समाज में नशाखोरी बढ़ती जा रही है इससे विद्यार्थी भी अछूते नहीं है। हमें इसकी रोकथाम के लिए प्रारंभिक स्तर पर ही कार्य करना चाहिए आज जो जानकारी विशेषज्ञों के द्वारा दी गई इसका लाभ हमारे विद्यालय के विद्यार्थियों को अवश्य होगा।
ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर डॉ एम आर कश्यप ने उपस्थित प्रतिभागियों को कहा शाला स्तर पर शिक्षक शिक्षिकाओं के द्वारा नशाखोरी के दुष्परिणाम विद्यार्थियों को समझाने पर उसके सबसे अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे। इस कार्यक्रम पर प्रतिभागी के रूप में रसायन शास्त्र की व्याख्याता देवी सिंह ने कार्यशाला की प्रस्तुति और उपयोगिता के बारे में अपने विचार व्यक्त किए। प्रतिभा की कई शिक्षक शिक्षिका ने भी इस पर अपने विचार प्रस्तुत किए। समस्त शिक्षक शिक्षिकाओं ने डॉक्टर अश्लेषा तिवारी के प्रदर्शन एवं प्रस्तुति की सराहना की। आभार प्रदर्शन वरिष्ठ शिक्षिका शांति कश्यप ने दिया।