आज के वक़्त में लोग देवताओं और उनके विभिन्न रूपों की स्थापना करते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि कई ऐसी प्रतिमाएं है जिनकी पूजा-पाठ और उनको घर में रखना वर्जित माना गया है। इनको रखने से आपको कई परेशानियों ( problem)का सामना करना पड़ सकता है तो चलिए जानते है

REad more : Vastu Tips : सोए हुए भाग्य को जगा देते हैं गुलाब से जुड़े ये उपाय, जानिये क्या कहता है वास्तु शास्त्र

शनिदेव( shanidev)- घर पर शनि देव की मूर्ति स्थापित करना भी वर्जित माना गया है. सूर्यपुत्र शनि देव की पूजा हमेशा घर से बाहर की जाती है, इसलिए शनिदेव की प्रतिमा घर पर स्थापित न करें.

भैरव बाबा( bhairav baba)- भैरव बाबा भी शिव जी का ही रूप माना जाता है. लेकिन भैरव बाबा का संबंध तंत्र-मंत्र से भी जोड़ा जाता है, इसलिए भैरव बाबा को घर पर स्थापित नहीं करना चाहिए.

राहु-केतु- ज्योतिष शास्त्र( shastra) में राहु-केतु को बुरे ग्रहों में गिना जाता है. माना जाता है कि यदि आपके घर या कुंडली में राहु-केतु दोष लग जाते है तो उनके साथ कुछ न कुछ बुरा होने लगता है या उन्हें बुरे परिणाम प्राप्त होते है।

नटराज- माना जाता है कि भगवान शिव( god shiv) ने जब रौद्र रूप धारण करके तांडव किया था. उनकी उस प्रतिमा को नटराज की उपमा दी गई थी।