कोरबा। CRIME NEWS : एक ऐसा खबर सामने आ रहा है जो आज कल सायद ही कोई विश्वास करेगा। प्रेमिका की हत्या करने वाले प्रेमी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी प्रेमी ने 6 माह पहले शादी की जिद पर अपनी प्रेमिका की हत्या कर दिया। मृतिका के परिजनों ने पुलिस को गुमशुदगी दर्ज करवाई थी। आरोपी के गिरफ्तार होने पर पुलिस को उसने बताया कि हत्या के बाद रोज प्रेमिका का भूत उसे रात में आकर परेशान कर रहा था जिससे वह डरा हुआ था।

मिली जानकारी के अनुसार कोतवाली थाना के रामपुर चौकी क्षेत्र के ग्राम रिसदी में रहने वाली 24 वर्षीय अंजू यादव 8 माह से घर से गायब थी। उसकी माँ रमशीला यादव ने बेटी के गायब होने के दो माह बाद जुलाई 2022 में बेटी की गुमशुदगी रामपुर चौकी में दर्ज करवाई थी। जिसके बाद वह कई बार रामपुर चौकी में अपनी बेटी की तलाश करने की गुहार लगाने के लिए जाती थी। पर वहां से कोई कार्यवाही न होता देख कर रमशीला यादव ने कोरबा एसपी संतोष सिंह से संपर्क किया। अपनी बेटी की तलाश करने की गुहार लगाते हुए ढ़ेलवाडीह निवासी 25 वर्षीय गोपाल खड़िया पर बेटी को गायब करने की आशंका जताई। मामले को गंभीरता से लेते हुए एसपी संतोष सिंह ने रामपुर पुलिस को गंभीरता से मामले की जांच के निर्देश दिए।

इसे भी पढ़े- CRIME NEWS : पुलिस भर्ती के नाम पर ठगी करने वाली फर्जी जज व डीएसपी गिरफ्तार, 2 अब भी फरार…

एसपी के निर्देश पर पुलिस ने गोपाल खड़िया को हिरासत में लेकर पूछताछ की। शुरुवात में तो वह मुकरता रहा फिर सख्ती बरतने पर टूट गया और अपनी प्रेमिका अंजू यादव की हत्या कर लाश दफनाने की बात स्वीकार कर ली। युवती ने बताया कि तीन साल पहले उसकी जान पहचान ईंट भट्ठा में काम करने के दौरान अंजू यादव से हुई थी। वो भी वही क़ाम करती थी। दोनो की पहचान पहले दोस्ती फिर प्यार में बदल गई। तीन साल तक दोनो का प्रेम संबंध बना रहा। फिर अंजू अपने प्रेमी गोपाल पर शादी का दबाव बनाने लगी। पहले तो गोपाल टालता रहा। पर अंजू के बार बार दबाव बनाने पर उसे 8 माह पहले भगा कर बिलासपुर अपने दीदी जीजा जी के घर ले गया। उन्होंने दोनो को रखने से इंकार करते हुए समझा बुझाकर वापस भेज दिया। जिस पर गोपाल खड़िया अपनी प्रेमिका अंजू यादव को लेकर मानिकपुर चौकी क्षेत्र अंतर्गत अपने गांव ढ़ेलवाडीह आ गया। यहां वह बिना शादी के अंजू के साथ दो माह तक रहा। इस बीच अंजू लगातार उस पर शादी का दबाव बनाती थी। जिसके चलते दोनो के बीच विवाद भी होता ही रहता था। हमेशा के विवाद से तंग आकर गोपाल ने उसे रास्ते से हटाने की सोची। और अंजू को झांसा देकर उसके गांव रिसदा छोड़ने की बात कह उसे लेकर निकला और मानिकपुर पुलिस चौकी क्षेत्र के ढेलवाडीह के सागौन नर्सरी में पहुँचा। वहां गला दबा कर अंजू की हत्या कर दी। फिर बीस फिट गढ्ढा खोदकर उसे दफना दिया। पुलिस ने मानिकपुर चौकी क्षेत्र अंतर्गत घटनास्थल पर तहसीलदार लकेश्वर सिदार की मौजुदगी में खुदाई करवा के कंकाल बरामद कर लिया है। और उसे जांच के लिए भिजवाया है। फिलहाल पुलिस आगे की कार्यवाही कर रही है।