ईडी ( ED)के द्वारा चीफ सेक्रेटरी अमिताभ जैन को पत्र के साथ अनिल टूटेजा और एपी त्रिपाठी( tripathi) के विरुध्द जारी समंस तामील कराए जाने के मसले पर उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के संयुक्त सचिव अनिल टूटेजा ने पत्र भेज कर अपनी स्थिति स्पष्ट की है।

REad more : RAIPUR NEWS : भनपुरी में ओमेगा सेकी मोबिलिटी के ऑटो शोरूम का उद्घाटन, CGOA महासचिव होरा ने दी बधाई 

टूटेजा ने सीएस अमिताभ जैन को पत्र लिखकर कहा है कि वह ईडी की कार्यवाही में सहयोग देने तैयार हैं, लेकिन उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में मामला दायर कर रखा है और इसलिए उन्हें दो हफ्ते का समय चाहिए।व्यापार एवं उद्योग विभाग के संयुक्त सचिव टूटेजा ने पत्र में ईडी के पत्र के संदर्भ में मुख्य सचिव कार्यालय से जारी पत्र दिनांक16 अप्रैल का जिक्र करते हुए लिखा है- ईडी की जांच अवैध है, अनाधिकृत है।

ईडी किसी शेड्यूल( schedule) अपराध के बगैर जांच नहीं कर सकती

ईडी जिस मसले पर जांच कर रही है, उसकी विधिक अधिकारिता को सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी गई है। ईडी किसी शेड्यूल अपराध के बगैर जांच नहीं कर सकती और इस मामले में ईडी के पास कोई आईपीसी में दर्ज शैड्यूल अपराध नहीं है।

विधिक मसले भी उठाए

ईडी के समन का या तो मैंने जवाब दिया है या मेरे प्रतिनिधियों ने जवाब दिया है। हमने इस में विधिक मसले भी उठाए हैं। हमने दो हफ्ते का समय मांगा है, क्योंकि इस संबंध में मामला सुप्रीम कोर्ट ( supreme court)में विचाराधीन है।

शराब को लेकर जांच में जुटी

मौजूदा समय में ED शराब को लेकर जांच में जुटी है, लेकिन इस जांच के विषय क्या हैं। इसके आधार क्या है, इसे लेकर ईडी की ओर से कोई अधिकृत जानकारी नहीं दी गई है। जैसी कि की कार्यशैली है यह तब ही पता चलता है, जबकि ई नारी की सूचना या कि रिमांड पत्र देती है। फिलहाल इस कहीं से कोई सूचना नहीं है।