रायपुर। RAIPUR NEWS : छत्तीसगढ़ डायसिस चर्च ऑफ नार्थ इंडिया की त्रिवार्षिक डायसिसन काउंसिल बिशप द राइट रेवरेंड एस.के. नंदा की अध्यक्षता में अग्रसेन धाम में हुई। काउंसिल में तीन साल के आत्मिक विकास के रोड मैप को मंजूरी दी गई। साथ ही छत्तीसगढ़ की कलीसियाअों, चर्चों, अस्पतालों, स्कूलों, हॉस्टलों व अन्य संस्थाओं को नया स्वरूप देने, अपडेट करने तथा डेवलपमेंट की योजनाओं को मंजूरी दी गई है। काउंसिल में नई कार्यकारिणी व समितियों का भी निर्वाचन हुआ। डायसिस के नए सचिव के रूप में नितिन लॉरेंस को दोबोरा जिम्मेदारी सौंपी गई है। जयदीप रॉबिंसन को कोषाध्यक्ष का दायित्व दिया गया है। नए पदाधिकारियों ने सोमवार को पदभार ग्रहण कर लिया।

नई कार्यकारिणी में उपाध्यक्ष पादरी समीर फ्रेंकलीन होंगे। सदस्यों में पादरी रवींद्र मसीह, पादरी असीम विक्रम, पादरी शैलेष लूक सालोमन, प्रमोद मसीह, सुशील गुप्ता, अमित दास, अभिषेक फिलिप, स्मिता बख्श, अंजना भगत, रूचि धर्मराज व आशीष बाघे होंगे। इसी तरह फाइनेंस कमेटी, स्टिवर्टशिप कमेटी, मिनिस्ट्रियल कमेटी, प्रापर्टी कमेटी, डासिसन टेन, डेलिगेट ऑफ  द सिनड, डायसिसन कोर्ट, रीलीजियस एजुकेशन डायरेक्टर, रिप्रजेंटेटिव टू सीडीबीई, रिप्रजेंटेटिव अॉफ गास मेमोरियल सेंटर, लॉ एंड प्रोसिसजर कमेटी, भी बनाई गई है।

मिनिस्ट्रियल कमेटी के अध्यक्ष पादरी एसके नंदा और सचिव पादरी प्रणय टोप्पो हैं। भंडारीपन कमेटी के चेयरमेन पादरी सुमेंदु अधिकारी सेक्रेटरी पादरी नवीन मसीह हैं। प्रापर्टी कमेटी के अध्यक्ष बिशप एसके नंदा हैं। क्रिश्चयन लाइफ मिशन एंड इंवेंजलिज्म कमेटी के अध्यक्ष पादरी प्रमेंद्र मसीह हैं। रिलीजियस एजुकेशन एंड ले- एक्टिविटी कमेटी के अध्यक्ष पादरी पंकज गुलजार हैं।

काउंसिल में विभिन्न स्थानों के चर्चों के डेलिगेट ने अपने प्रस्ताव व सुझाव प्रस्तुत किए जिसे सर्व सम्मति से पारित किया गया। समस्याअों के निराकरण पर भी चर्चा की गई। डायसिस के 14 सालों के इतिहास में पहली दफे सभी प्रस्ताव व स्लैट सर्व सम्मति से पारित कर दिए गए। प्रारंभ में अध्यक्ष बिशप एसके नंदा ने सुसमाचार पर संदेश दिया। उन्होंने अपना प्रतिवेदन भी पेश किया। सचिव नितिन लॉरेंस व कोषाध्यक्ष अजय जॉन, एजुकेशन बोर्ड के सचिव जयदीप राबिसंन, महिला सभा अध्यक्ष पी. सामुएल अादि ने अपने प्रतिवेदन प्रस्तुत किए। रिर्काडिग सेक्रेटरी जॉन राजेश पॉल, राकेश सालोमन, प्रसाद व वर्षा जॉर्ज थे।