किसी भी शराब को परोसने के लिए बेस्ट गिलास वही हैं, जो उसके रंग और सुगंध का एहसास करने में मदद करे और शराब के स्वाभाविक प्रकृति में कोई बदलाव न करे. दावा तो यहां तक किया जाता है कि अगर गलत गिलास का चुनाव किया तो बेहद महंगी क्वॉलिटी की शराब का मजा भी किरकिरा हो सकता है।

Read more : Winter Care : दिल का सर्दी से क्या है कनेक्शन? ना करें ये गलतियां, बचाव के लिए यहा जानें कुछ सुझाव

एक्सपर्ट्स की मानें तो स्टील या प्लास्टिक के गिलास में शराब पीने का स्वास्थ्य संबंधित विशेष नुकसान तो नहीं है. हालांकि, प्लास्टिक या स्टील के गिलास में शराब के मूल स्वरूप का एहसास करना मुमकिन नहीं है. दरअसल, इसकी वजह इंसानों की इंद्रियों से जुड़ी हुई है. जानकारों के मुताबिक, खाने-पीने के स्वाद के एहसास की सबसे बड़ी ताकत है हमारी आंखें. बाकी शराब की महक, उसका स्वाद, उसका स्पर्श आदि महसूस करने के लिए हमारी दूसरी ज्ञानेंद्रियां मदद करती हैं. कान का इस्तेमाल तब होता है।

गिलास का डिजाइन बीयर को ज्यादा से ज्यादा वक्त तक ठंडा रखने में मदद करता है

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, अधिकतर प्रकार की बीयर का स्वाद इस गिलास में निखर कर आता है. वहीं, पारंपरिक मग (Mug)गिलास का डिजाइन बीयर को ज्यादा से ज्यादा वक्त तक ठंडा रखने में मदद करता है. इसके अलावा, पिल्सनर (Pilsner), वाइजेन (Weizen), स्निफटर (Snifter), आईपीए (IPA), गोब्लेट (Goblet) आदि गिलास में भी बीयर परोसी जाती है।

चुस्की लेते वक्त इंसान की नाक उस बीयर का सही फ्लेवर महसूस

किसी खास आकार के गिलास में किसी खास किस्म की बीयर को पीना ज्यादा मुनासिब होता है. इन गिलास के आकार की वजह से ड्रिंक की चुस्की लेते वक्त इंसान की नाक उस बीयर का सही फ्लेवर महसूस करती है. उदाहरण के तौर पर इंपीरियल ट्यूलिप गिलास. इन खास आकार के गिलास में गिनेस (Guinness) बीयर परोसा जाना बेहतर माना जाता है।